boltBREAKING NEWS
  •  
  • रहें हर खबर से अपडेट भीलवाड़ा हलचल के साथ
  • भीलवाड़ा हलचल पर समाचार या जानकारी भेजे [email protected]
  • सबसे ज्यादा पाठकों तक पहुँच और सबसे सस्ता विज्ञापन सम्पर्क करें  6377 364 129
  •  

बड़ा फैसला, पीएफ पर ब्याज दरों की हुई घोषणा, जानें 2021-22 में आपके खाते में कितना आयेगा ब्याज

बड़ा फैसला, पीएफ पर ब्याज दरों की हुई घोषणा, जानें 2021-22 में आपके खाते में कितना आयेगा ब्याज

नयी दिल्ली : EPFO के ब्याज दरों को लेकर बड़ा फैसला आया है. सरकार ने पीएफ (PF) पर मिलने वाले ब्याज में कोई भी बदलाव नहीं किया है और इसे पिछले साल की तरह की 8.5 फीसदी पर बरकरार रखा है. इससे देश केक करीब छह करोड़ कामगारों को फायदा मिलेगा. कर्मचारी भविष्य निधि संगठन के केंद्रीय न्यासी मंडल ने बैठक में यह फैसला किया है.

 कर्मचारी भविष्य निधि संगठन प्रत्येक वित्तीय वर्ष के लिए पीएफ राशि पर ब्याज दर की घोषणा करता है. पिछले साल मार्च में पीएफ पर मिलने वाले ब्याज दर को घटा दिया गया था. इसमें 25 बेसिस प्वाइंट की कटौती कर इसे 8.5 फीसदी किया गया था. वित्त वर्ष 2019-2020 में पीएफ पर मिलने वाला ब्याज 2012-2013 के बाद सबसे नीचला स्तर है.

बता दें कि शनिवार को ईपीएफओ की ओर से जारी पेरोल के आंकड़ों के मुताबिक दिसंबर में नये रजिस्ट्रेशन की संख्या 24 प्रतिशत बढ़कर 12.54 हो गयी है. यह बढ़ोतरी नवंबर 2020 के मुकाबले 44 प्रतिशत अधिक है. श्रम मंत्रालय ने एक बयान में कहा कि ईपीएफओ के वेतन आंकड़ों के अनुसार दिसंबर 2020 में शुद्ध आधार पर 12.24 फीसदी की बढ़ोतरी हुई है जो अच्छा संकेत है.

EPFO  ने शुरू की नयी सुविधा, कर्मचारियों को मिलेगा यह बड़ा लाभ

Also Read

EPFO ने शुरू की नयी सुविधा, कर्मचारियों को मिलेगा यह बड़ा लाभ

अब तक पीएफ पर मिलने वाला ब्याज

2013-2014 - 8.75 फीसदी

2015-2016 - 8.8 फीसदी

2016-2017 - 8.65 फीसदी

2017-2018 - 8.55 फीसदी

2018-2019 - 8.65 फीसदी

2019-2020 - 8.5 फीसदी

2020-2021 - 8.5 फीसदी

ब्याज दरों में कटौती की थी चर्चा

बता दें कि बैठक के पहले ऐसी खबरें आ रही थी कि इस साल पीएफ पर मिलने वाले ब्याज दरों में कटौती की जायेगी. उम्मीद की जा रही थी कि केंद्रीय न्यासी मंडल पीएफ पर मिलने वाले ब्याज दरों में 15 से 25 बेसिस प्वाइंट की कटौती कर सकता है. देश में कोरोना संकट के दौरान आर्थिक नुकसान को देखते हुए यह अनुमान लगाया गया था. लेकिन सरकार ने ब्याज दरों में कोई कटौती नहीं की.