boltBREAKING NEWS
  •  
  • रहें हर खबर से अपडेट भीलवाड़ा हलचल के साथ
  • भीलवाड़ा हलचल पर समाचार या जानकारी भेजे [email protected]
  • सबसे ज्यादा पाठकों तक पहुँच और सबसे सस्ता विज्ञापन सम्पर्क करें  6377 364 129
  •  

मुकेश अंबानी के घर के बाहर जिलेटिन की छड़ें भरकर छोड़ी गई गाड़ी के मालिक आमेट के मनसुख हिरण की मुंबई में  संदिग्ध मौत

मुकेश अंबानी के घर के बाहर जिलेटिन की छड़ें भरकर छोड़ी गई गाड़ी के मालिक आमेट के मनसुख हिरण की मुंबई में  संदिग्ध मौत

 राजसमन्द (राव दिलीप सिंह) राजस्थान के राजसमन्द जिले के आमेट नगर पालिका क्षेत्र के  निवासी  मनसुख पिता मिश्रीलाल हिरण की संदिग्ध अवस्था में महाराष्ट्र के मुंबई हाल मुकाम ठाणे की  संदिग्ध मौत , कई सवालों के घेरे में होते हुए नगर में चर्चा का विषय बनी हुई है। मनसुख का परिवार मूलतः वर्तमान में महाराष्ट्र के मुंबई में निवासरत है उनके  भाई विनोद व हेमंत हिरण  भी वही रहते हुए व्यवसाय करते हैं। उनकी मांता पिस्ता बाई  यही थी जो मनसुख के मौत की खबर सुनते ही मुंबई के लिए रवाना हो गई। 

 

 मुंबई पिछले सप्ताह दक्षिण मुंबई में मुकेश अंबानी की बिल्डिंग के घर के पास एक स्कार्पियो गाड़ी में 21 जिलेटिन की छड़ें और धमकी भरा पत्र मिला था। यह गाड़ी ठाणे के जिस मनसुख हिरन राजस्थान के राजसमंद जिले के आमेट हाल ठाणे निवासी की थी, उनकी शुक्रवार को मुंबा-कलवा की खाड़ी में लाश मिली है। मनसुख हिरन की यह गाड़ी 17 फरवरी को चुराई गई थी। मनसुख हिरन  गुरुवार रात से लापता थे। शुक्रवार सुबह ठाणे के नौपाडा पुलिस स्टेशन में परिवार द्वारा उनकी मिसिंग की शिकायत दर्ज कराई गई थी। सुबह करीब 10.30 बजे उनकी लाश मिली 

 

फोन आने के बाद ऑटो से गए, फिर नहीं लौटे

 

इस मौत पर पुलिस अधिकृत रूप से कुछ बोल नहीं रही है। कुछ लोग बता रहे हैं कि मनसुख के मुंह में कपड़ा ठूंसा हुआ था, जबकि कुछ लोग इसे खुदकुशी बता रहे हैं कि उन्होंने खाड़ी में कूदकर खुदकुशी की। गुरुवार शाम वह ठाणे में अपने बेटे के साथ जब थे, तब किसी तावडे का उनके पास फोन आया। बेटे को घर भेजकर वह ऑटो से कहीं चले गए। शुक्रवार सुबह उनकी लाश मिली।

मनसुख कार डेकोरेटर थे व  आर एस एस प्रचारक हस्तिमल जैन (हिरन) के भतीजे थे नौपाड़ा में ही उनकी दुकान थी। वह ठाणे में खोपट सिग्नल के पास विकास पाम टॉवर में पत्नी व तीन बच्चों के साथ रहते थे। मनसुख हिरन को पिछले सप्ताह मुंबई पुलिस मुख्यालय में पूछताछ के लिए बुलाया गया था। उस दौरान उन्होंने पुलिस को बताया था कि 17/18 फरवरी की रात उनकी स्कार्पियो कुछ टेक्निकल कारण से विक्रोली हाईवे पर खराब हो गई थी। इसलिए उन्होंने उसे वहीं छोड़ दिया था। कुछ घंटे बाद जब वह वहां से लौटे, तो उनकी वह गाड़ी चोरी हो गई थी।

 

देवेंद्र फडणवीस ने उठाए सवाल

मनसुख हिरन की लाश मिलने के बाद महाराष्ट्र के पूर्व मुख्यमंत्री देवेंद्र फडणवीस ने सीआईयू के प्रभारी सचिन वझे पर सवाल उठाए हैं। जवाब में वझे ने मीडिया से कहा कि मैं मनसुख को जानता हूं, क्योंकि वह और मैं दोनों ठाणे में रहते हैं, पर मैं हाल में मनसुख से कभी नहीं मिला। वझे ने यह भी कहा कि मनसुख को कुछ पुलिस अधिकारियों और राजनेताओं द्वारा प्रताड़ित किया जा रहा था। मैं इसके अलावा और कुछ नहीं जानता।

देवेंद्र फडणवीस ने विधानसभा में कहा कि सचिन वझे मुकेश अंबानी की बिल्डिंग पहुंचनेवाले पहले अधिकारी थे। जवाब में सचिन वझे ने कहा कि सबसे पहले गांवदेवी पुलिस स्टेशन के सीनियर इंस्पेक्टर , फिर ट्रैफिक पुलिस के लोग, फिर जोन-दो के डीसीपी, फिर बम निरोधक दस्ते के लोग घटनास्थल पर गए। उसके बाद मैं क्राइम ब्रांच अधिकारियों के साथ वहां पहुंचा था।

स्कॉर्पियो छोड़ने वाले की शिनाख्त नहीं

मनसुख की स्कार्पियो को चोरी कर उसे मुकेश अंबानी की बिल्डिंग के बाहर छोड़ने वाले की शिनाख्त नहीं हुई है। यह शख्स बाद में वहां कुछ दूर खड़ी इनोवा गाड़ी में बैठकर फरार हो गया था। इनोवा गाड़ी में पहले से कोई और मौजूद था। इनोवा वाले की भी शिनाख्त नहीं हुई है। वह इनोवा गाड़ी किसकी थी, यह भी अभी तक पता नहीं चल पाया है।

मुंबई क्राइम ब्रांच की दस टीमें इस केस का इनवेस्टिगेशन कर रही हैं। ठाणे पुलिस, एनआईए और महाराष्ट्र एटीएस भी समानांतर जांच कर रही हैं। लेकिन मनसुख हिरन की संदेहास्पद मौत ने खुद मुंबई पुलिस को शक के घेरे में ला दिया है। जिस दिन मुकेश अंबानी की बिल्डिंग के पास स्कार्पियो गाड़ी की गई थी, उससे कुछ मिनट पहले स्कार्पियो का ड्राइवर और इनोवा का ड्राइवर पांच मिनट तक सायन में रुके थे। जिनका अभी तक पुलिस नहीं लगा सकी पता। सूत्रों के हवाले से मिली तमाम जानकारी के चलते व मनसुख के करीबी ने मोबाइल पर बात करते हुए बताया यानीकी  खबर लिखे जाने त‌क मनसुख  का अंतिम संस्कार नहीं हुआ है। पोस्टमार्टम रिपोर्ट आने  इंतजार में !

 

 सामाजिक संगठनों ने की निष्पक्ष जांच की मांग 

 

मनसुख हिरण की संदिग्ध मौत को लेकर आमेट नगर में शोक की लहर है , नगर के तेरापंथ सभा के अध्यक्ष देवेंद्र मेहता मूर्तिपूजक संघ के अध्यक्ष प्रताप सिंह मेहता स्थानकवासी संघ के सुरेंद्र सुर्या , जैन युवा ग्रुप के अध्यक्ष संजय बोहरा, पूर्व अध्यक्ष सुनील गांधी, अरविंद भंसारिया , धूल चंद हिरण , धरमचंद खाब्या , प्रवीण ओसवाल मनीष ठिलीवाल,, आदि सामाजिक संगठनों ने मौत की निष्पक्ष जांच करने की मांग की।

 

इनका कहना :-  मिलनसार प्रवृत्ति के आमेट में रहने वाले  साधारण से परिवार में जन्मे मनसुख हिरण की महाराष्ट्र में  मुंबई के ठाणे में  हत्या हुई , सकल जैन समाज की ओर से सोमवार को उपखंड अधिकारी के समक्ष ज्ञापन दिया जाएगा :- मुकेश सिरोया समाजसेवी आमेट